घर से माइट्स कम करने के 7 तरीके

26 जुलाई, 2020
माइट्स लंबे समय तक जीवित रह सकते हैं, इसलिए मौसम के अनुसार कपड़ों को धोना और बदलना सबसे अच्छा है, साथ ही इसे इस्तेमाल करने से पहले बिस्तर धोना भी जरूरी है।

माइट्स सूक्ष्म जीव होते हैं जो कपड़ों या इसी तरह की सतहों पर रहते हैं। वे मुख्य रूप से बेडरूम में जमा होते हैं (गद्दे और तकिए उनके पसंदीदा स्थान हैं) और एलर्जी और बीमारियों का कारण बन सकते हैं।

इसलिए हम आपको इस लेख में उन्हें कम करने का तरीका बताएंगे।

माइट्स या कुटकी क्या हैं?

माइट्स अरचिन्ड (arachnids) के एक उपवर्ग हैं और लंबाई में कुछ मिलीमीटर से ज्यादा नहीं होते। उनके हैबिटैट कई हैं और भूमि और समुद्री वातावरण, यहां तक ​​कि रेगिस्तान, ऊंचे पहाड़ और गर्म झरने जैसी जगहों पर भी मिलते हैं।

कई माइट्स काई, पत्तियों, फर्न, तनों और फूलों पर जीते हैं, जबकि दूसरे फसलों (कीटों) को खाते हैं।

इनमें कुछ लोगों के लिए एलर्जी का कारण बनते हैं और दूसरे जानवरों पर पैरासाईट के रूप में जीते हैं। एलर्जी माइट्स और इनके मल के कारण होती है (जो हम नहीं देखते हैं, लेकिन घर में जमा होते हैं)।

धूल के माइट्स (Dust mites) किसी भी वातावरण में पाए जा सकते हैं और लगातार एलर्जी या अस्थमा को ट्रिगर कर सकते हैं।

इस प्रकार का माईट गद्दे, कंबल, चादर, तकिए और सोफे में प्रचुर मात्रा में होता है और यह 3 महीने तक ज़िंदा रह सकता है। उस दौरान वे 100 अंडे दे सकते हैं।

प्रजनन के लिए उनका पसंदीदा समय शरद ऋतु और वसंत है।

डस्ट माइट्स से होने वाली एलर्जी के लक्षणों के बीच हम पा सकते हैं:

  • बहती नाक
  • छींकना (विशेष रूप से सुबह में)
  • बंद नाक
  • आँखों में पानी और खुजली
  • त्वचा की लाली
  • सांस लेते वक्त सीटी बजना

घर से माइट्स कम करने के 7 तरीके

छोटी साइज और किसी भी स्थान पर पाए जाने की क्षमता जैसे कि बिस्तर या सोफा, हमें अक्सर यह एहसास नहीं होता है कि उन्होंने हमारे कमरे या बेडरूम में जड़ें जमा ली है।

इसलिए घर पर माइट्स के कारण होने वाली एलर्जी या अस्थमा की रोकथाम के लिए सफाई आवश्यक है।

उन्हें कम करने में मदद करने वाले कुछ उपयोगी सुझाव यहाँ दिए गए हैं:

1. नियमित रूप से बिस्तर बदलें

माइट्स मुख्य रूप से धूल और मृत त्वचा को खाते हैं। जब हम सोते हैं, तो हम ऐसे कण छोड़ते हैं और सूक्ष्म जीव को दावत दे सकते हैं।

इसलिए हर एक या दो सप्ताह में चादर और कंबल बदलने की कोशिश करें।

2. ज्यादा टेम्परेचर पर धुलाई

बिस्तर को जितना संभव हो उतना गर्म पानी से धोया जाना चाहिए (55 डिग्री सेल्सियस)। आप अपनी वाशिंग मशीन को उस तापमान पर प्रोग्राम कर सकते हैं।

अच्छी गुणवत्ता वाले पावरफुल डिटर्जेंट का उपयोग करने में संकोच न करें। हम ऐसे प्रोडक्ट की सलाह देते हैं जिनमें असर बढ़ाने के लिए यूकेलिप्टस, टी ट्री या देवदार का तेल होता है।

यदि आप ठंडे या गर्म पानी का उपयोग करते हैं, तो कुछ किस्म के ब्लीच का उपयोग करना चाहिए जो कपड़े के लिए सही हों।

माइट्स को एक वस्तु से दूसरी वस्तु में जाने से रोकने के लिए अपने बिस्तर को दूसरे कपड़ों में न मिलाएं।

धोने के बाद, आप पूरी तरह से पैरासाईट से छुटकारा पाने के लिए वॉशिंग मशीन को गर्म पानी से धो सकते हैं।

अपने कपड़ों को सुखाने के लिए, ड्रायर से निकालने के बाद पूरे दिन उन्हें धूप में छोड़ दें।

इसे भी पढ़ें : डायटोमेसियस मिटटी से पिस्सू से छुटकारा कैसे पायें

3. माइट्स कम करने के लिए वैक्यूम वीकली

आपका वैक्यूम क्लीनर न केवल कारपेट के लिए अच्छा है, बल्कि सोफे, पर्दे, कुर्सियों , बिस्तर आदि के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

दूसरे शब्दों में सभी फर्नीचर या ऐसे स्थान जहां लोग लेटते हैं और मृत डेड सेल्स को छोड़ सकते हैं, वहाँ इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

वैक्यूम क्लीनर को अपना काम असरदार ढंग से करने के लिए इसमें एक डबल-लेयर माइक्रो-फिल्टर बैग होना चाहिए जो एक ही समय में धूल के कणों और माइट्स को फँसाएगा।

ध्यान रखें कि सतहों को वैक्यूम करना कोई गारंटी नहीं है कि रोगजनकों और उनकी एलर्जी गायब हो जाएगी।

अच्छी बात यह है कि जिस धूल और कणों पर वे जीते हैं, वह बहुत कम हो जाएगा। अपने वैक्यूम क्लीनर को बनाए रखना न भूलें ताकि यह ठीक से काम करे।

4. माइट्स कम करने के लिए स्टीम क्लीन

माइट्स कम करने के लिए स्टीम क्लीन

यह विशेष रूप से अहम है अगर फर्श पर कालीन हैं। यह विकल्प गंदगी को घोलता है और यह सतह पर और कपड़े के गहरे भागों में कीटाणुओं और माइट्स को मारता है।

सफाई के बाद, आपको ड्रायर या डी-ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल करना होगा, क्योंकि नमी बैक्टीरिया के लिए आदर्श वातावरण बना सकती है और इन सूक्ष्म जीवों का ध्यान खींच सकती है।

इसके अलावा, हम सिफैर्ष करते हैं कि आप डस्टर या सूखे कपड़ों का उपयोग न करें, क्योंकि वे हवा में एलर्जी फैलाते हैं। इसके बजाय सूखी सतहों के लिए नम कपड़े का उपयोग करना बेहतर है।

5. कपड़ों को धोएं

गर्मी शुरू होने पर कंबल और गर्म कपड़े जमा कर रखना आम बात है और सर्दियों की शुरुआत होते ही उन्हें बाहर निकाल देना चाहिए।

उन्हें बिस्तर पर रखने या उन्हें पहनने से पहले, हम आपको पहले उन्हें धोने की सलाह देते हैं।

उस दौरान जब वे एक बॉक्स में या बिस्तर के नीचे रहें तो घुन कई गुना बढ़ गए होंगे।

इसे भी पढ़ें : तकिए और गद्दे को चमक देकर ऐसे निखारें

6. प्लास्टिक कवर से ढंके

डस्ट-प्रूफ एंटी-एलर्जी कवर दुकानों में उपलब्ध हैं और माइट्स से कपड़े को बचाते हैं।

सबसे अच्छा होगा अगर वे सिंथेटिक पैडिंग से बने हैं। इसके अलावा, सबसे उपयुक्त गद्दे में विस्को-इलास्टिक फोम होता है।

7. स्टफ्ड एनिमल और कारपेट को अलविदा कहें

आपकी सेहत पर माइट्स को असर डालने से रोकने के लिए उन क्षेत्रों को कम करना सबसे अच्छा है जहां वे जमा हो सकते हैं, जैसे स्टफ्ड टॉय और कारपेट फ्लोर।

हम यह भी सलाह देते हैं कि आप सोफे पर सोकर उन्हें जमा न होने दें, और जितनी संभव हो उतनी कम वस्तुएँ ऐसी हों जो धूल को आकर्षित कर सकें।

इसकी कुंजी न्यूनतम डेकोरेशन हो सकती है। इसके अलावा, हफ्ते में कम से कम एक बार कमरे को हवादार करना न भूलें।