5 बेहतरीन नेचुरल वॉश: मोज़े की सफाई के लिए

मई 22, 2018
नए दिखने के लिए मोज़े की सफाई में इस्तेमाल होने वाले इन प्राकृतिक पदार्थों में कोई ऐसा क्षारीय केमिकल नहीं है जो कपड़े के फाइबर को नष्ट कर सके।

मोज़े सबसे अधिक उपयोग किये जाने वाली चीजों में से एक हैं। वे लगातार हमारे पैरों, जूतों और ज़मीन के संपर्क में रहते हैं। इसलिए ये जल्दी गंदे और ख़राब भी होते हैं। इनके रेशों  में गंदगी जमा हो जाने से ये दाग जल्दी ही जिद्दी बन जाते हैं। मोज़े की सफाई के लिए कई तरह के उत्पाद हैं। लेकिन कुछ लोग नुकसानदेह केमिकल्स से बचने के लिए प्राकृतिक उपायों का प्रयोग करना ही पसंद करते हैं।

संयोग से, स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों को किसी भी खतरे में डाले बिना मोज़े की सफाई के इन उपयोगी और सस्ते उपायों के लिए आवश्यक चीजें आसानी से मिल जाती हैं।

नीचे हम आपको पांच रोचक उपाय बताएँगे जिनका आप अगली बार मोज़े धोने के लिए उपयोग कर सकते हैं ।

1. नमक मिले गर्म पानी से मोज़े की सफाई

नमक मिले पानी से मोज़े की सफाई

नमक और गर्म पानी का घोल पसीने के दाग और गन्दगी को आसानी से हटा देता है। इसलिए इसका इस्तेमाल मोज़े की सफाई के लिए कर सकते हैं।

सामग्री :

  • दो चम्मच नमक
  • एक लीटर गर्म पानी

दिशा-निर्देश :

  • गर्म पानी में नमक डालें और उसे हिलाते रहें जब तक यह पूरी तरह से घुल न जाए।
  • अगर मोज़े ज्यादा गंदे हैं तो बेहतर परिणाम के लिए उसमें थोड़ा डिटर्जेंट मिलाएं ।
  • ज्यादा गर्म पानी का उपयोग ना करें क्योंकि वह मोज़े की इलास्टिक रबड़ बैंड को ख़राब कर सकता है ।

2. हाइड्रोजन पैरोक्साइड से मोज़े की सफाई

हाइड्रोजन पैरोक्साइड सफ़ेद मोज़े की सफाई करने के लिए बहुत उपयोगी ही होता है। इसके रासायनिक गुण पसीने की बदबू को ख़त्म करते हैं और जिद्दी दागों को भी हटा देते हैं ।

सामग्री :

  • ¼ कप हाइड्रोजन पैरोक्साइड
  • 1 लीटर गर्म पानी

दिशा-निर्देश :

  • एक लीटर पानी में हाइड्रोजन पैरोक्साइड को घोलें और उसमें मोज़ों को 40 मिनट के लिए भिगो दें।
  • इसके बाद मोज़ों का पानी निचोड़ लें और उन्हें अपने कपड़े धोने वाले साबुन से धो लें।

3. नींबू का रस

मोज़े की सफाई के लिए नींबू का रस

नींबू के रस में नेचुरल एसिड होते हैं जो आपके कपड़ों की सफ़ेदी बनाये रखने में मदद करते हैं। इसके जीवाणुरोधी कम्पाउंड बदबू को ख़त्म करते हैं और अपनी ताजगी भरी खुशबू छोड़ते हैं। इसलिए नींबू के रस से मोज़े की सफाई के बाद इनसे खुशबू आती रहती है।

सामग्री :

  • 1 कप नींबू का रस
  • 1 लीटर गर्म पानी

दिशा-निर्देश :

  • गर्म पानी के कटोरे में नींबू का रस मिलाएं और 45 मिनट के लिए मोज़ों को उस घोल में डुबो दें।
  • फिर सामान्य रूप से धो कर हवा में सुखा दें।

4. खाने का सोडा

बेकिंग सोडा या खाने का सोडा के नाम से जाना जाने वाला सोडियम बाइकार्बोनेट सबसे अच्छे इको फ्रेंडली पदार्थों में से एक है | इसका उपयोग आप मोज़े की सफाई के लिए भी कर सकते हैं |

इसका कसैलापन और ब्लीचिंग एक्शन आपके नाज़ुक कपड़ों और मोज़ों के लिए पर्याप्त मुलायम होता है। इसकी सफ़ाई की शक्ति को बढ़ाने के लिए हम इसे हाइड्रोजन पैरोक्साइड के साथ मिलाने की सलाह देंगे|

सामग्री :

  • 2 चम्मच बेकिंग सोडा
  • ½ नींबू

दिशा-निर्देश :

  • गीले मोज़ों पर बेकिंग सोडा रगड़ें और कुछ देर के लिए छोड़ दें। फिर उन पर आधे नींबू को रगड़ें।
  • 10 मिनट के लिए इसे ऐसे ही छोड़ दें फिर पानी से खंगाल कर धूप में सुखा दें।

5. सफेद सिरका

मोज़े की सफाई के लिए सिरका

कपड़ों को धोने के लिए सफ़ेद सिरका का उपयोग करना उन घरों में सामान्य बात है जो 100% पर्यावरण अनुकूलित सफ़ाई की विधियों का इस्तेमाल करना चाहते हैं ।

इसमें एसिड और एक्टिव कंपाउंड होते हैं। ये गंदगी को हटाने, सफाई करने और बदबू को दूर करने में सहायक होते हैं ।

यह कपड़ों को मुलायम रखने के लिए एक विकल्प के रूप में भी काम आता है । इसमें नुकसानदेह केमिकल न होने पर भी यह उनके समान ही काम देता है ।

सामग्री :

  • 1 कप सफ़ेद सिरका
  • ½ लीटर ठंडा पानी

दिशा-निर्देश :

  • ठन्डे पानी में सिरके को मिला कर एक घोल तैयार करें। इसमें 30-40 मिनट के लिए मोज़ों को भिंगो दें।
  • थोड़ा साबुन लगाकर धीरे-धीरे रगड़ें और फिर पानी से धोयें ।
  • बेहतर परिणाम के लिए इसे हवा में सुखायें ।

याद रखें !

कपड़े पर आजमाए गए प्रोडक्ट की गुणवत्ता के आधार पर इन उपायों के परिणाम अलग-अलग हो सकते हैं।

अगर किसी एक तरीके से मनचाहा नतीजा न मिले तो दूसरा तरीका आजमायें। इसे तब तक करते रहें जब तक आप बढ़िया परिणाम नहीं पा लेते ।

ब्लीच का उपयोग करने से बचें क्योंकि यह बहुत हानिकारक होता है और कपड़ों को ख़राब कर देता है  ।

हर बार पहनने के बाद अपने मोज़ों को धोना ना भूलें। क्योंकि बिना धोये बार-बार पहनने से उनमें बदबू आने लगेगी और ज्यादा गन्दगी जमा हो जायेगी।

  • Abdollahi, M., & Hosseini, A. (2014). Hydrogen Peroxide. In Encyclopedia of Toxicology: Third Edition. https://doi.org/10.1016/B978-0-12-386454-3.00736-3

  • Goodyear, N., Brouillette, N., Tenaglia, K., Gore, R., & Marshall, J. (2015). The effectiveness of three home products in cleaning and disinfection of Staphylococcus aureus and Escherichia coli on home environmental surfaces. Journal of Applied Microbiology. https://doi.org/10.1111/jam.12935

  • Rutala, W. A., Barbee, S. L., Aguiar, N. C., Sobsey, M. D., & Weber, D. J. (2012). Antimicrobial Activity of Home Disinfectants and Natural Products Against Potential Human Pathogens. Infection Control and Hospital Epidemiology. https://doi.org/10.1086/501694