थाइराइड की समस्या: 7 लक्षण जिनसे शरीर आपको आगाह करता है

मई 4, 2018
थाइराइड की समस्या के लक्षण अक्सर अन्य स्थितियों से मिलते-जुलते हो सकते हैं। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि आपका शरीर आपको संकेत भेजता रहता है। इनसे वह आपको बताना चाहता है कि आपकी थाइराइड ग्रंथि के साथ कुछ गड़बड़ है।

थाइराइड की समस्या के लिए जिम्मेदार थाइराइड ग्रंथि गले के अग्रिम भाग में होती है। यह एक छोटी तितली जैसे आकार की होती है। छोटे आकार का होने के बावजूद, यह ग्रंथि शरीर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इस अंग के कामकाज में किसी भी प्रकार का असंतुलन आपके स्वास्थ्य को गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है।

यह यकीन करना काफी मुश्किल है कि इस तरह के एक छोटे से अंग का शरीर पर इतना बड़ा प्रभाव हो सकता है। जब यह पर्याप्त मात्रा से कम या ज्यादा हार्मोन पैदा करता है, तो आपका शरीर आपको आगाह करने के लिए कई संकेत भेजता है| थाइराइड की समस्या से इन संकेतों के सम्बन्ध को समझना जरूरी है।

नीचे हम आपको सात लक्षणों के बारे में बतायेंगे| इनका अर्थ यह हो सकता है कि आपके थाइराइड ग्रंथि में कोई समस्या है।

1. गले की तकलीफ थाइराइड की समस्या से जुड़ी हो सकती है

थाइराइड और उसके लक्षण

हमने पहले भी बताया था, यह ग्रंथि गर्दन में कंठ के पास स्थित होती है। इसलिए इसमें जब भी कोई समस्या होती है, आप इसे महसूस कर सकते हैं। थाइराइड की समस्या के ये संकेत कुछ इस प्रकार के हो सकते हैं:

  • इस जगह में दर्द या फिर अत्यधिक बेचैनी और असुविधा का अनुभव।
  • लगातार ख़राब गला और इस क्षेत्र में अन्य प्रकार की सूजन।
  • आवाज़ में बदलाव।

यदि आपका नियमित रूप से इन लक्षणों में से किसी एक पर भी ध्यान जाना शुरू होता है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएँ। हालांकि, बिना पर्ची के कोई दवा लेने से तकलीफ तो कम हो जाएगी, लेकिन यह केवल लंबे समय के लिए समस्या ही खड़ी करेगा।

2.  ध्यान लगाने में समस्या

बढ़ती उम्र के साथ मस्तिष्क से जुड़ी समस्याओं के बढ़ने की अधिक संभावना होती है। लेकिन समस्या अगर अचानक ही ज्यादा ही बिगड़ जाती है तो यह चिंता की बात है| आप अपने आप को रोज़मर्रा की चीज़ों को भूलता हुआ और ध्यान लगाने में असक्षम पाते हैं| इसका मतलब है, अपने डॉक्टर से मिलने का समय आ गया है।

कई महिलाएं इस प्रकार के लक्षणों को रजोनिवृत्ति या बढ़ती आयु से जुड़ी समस्याओं से जोड़ती हैं। हालांकि, थाइराइड ग्लैंड के हार्मोन में हुआ परिवर्तन भी ध्यान केंद्रित करने में कठिनाइयों का कारण हो सकता है।

जब हाइपोथाइराइडिज्म के रोगियों को सही उपचार मिलता है, तो वे हैरान होते हैं। क्योंकि  उनकी याददाश्त तेजी से सामान्य स्थिति में लौट आती है। हमेशा याद रखें कि किसी भी प्रकार के स्वयं निदान से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर लें।

यहां तक कि अगर आप रजोनिवृत्ति की स्थिति से गुज़र रही हैं, तो भी आपको हमेशा अपने सभी लक्षणों के लिए इसे दोष नहीं देना चाहिए।

3. बालों का झड़ना और त्वचा का सूखापन

थाइराइड और उसके लक्षण

बालों का थोड़ा झड़ते रहना आम बात है। खासतौर पर बसंत और सर्दी के मौसम में। दूसरे मौसम में भी यदि इनका झड़ना गंभीर रूप से बना रहता है, तो शायद यह संकेत है कि आपको थाइराइड की समस्या है।

एक अन्य संकेत त्वचा और इसकी प्रकृति में परिवर्तन है। सूखी और खुजली वाली त्वचा धीमे मेटाबोलिज्म और कम पसीने आने का परिणाम है। ऐसे लक्षणों का एक कारण थाइराइड हार्मोन के स्राव में बदलाव है।

4.  थाइराइड की समस्या और वज़न में बदलाव 

बिना किसी खास वजह के वज़न का घटना या बढ़ना चिंता का विषय है। यह हाइपोथाइराइडिज्म के सबसे आम लक्षणों में से एक है।

यह थाइराइड की ख़राब क्रियापद्धति के परिणामस्वरूप होता है, जो पूरे शरीर को धीमा कर देता है। यह आपके स्वाद में परिवर्तन का कारण भी बनता है। उदाहरन के लिए, खाद्य पदार्थों को चखने में पहले जैसा स्वाद न होना। थाइराइड की ख़राबी आपके इंद्रियों की संवेदनशीलता में परिवर्तन कर देती है। न केवल स्वाद में बल्कि स्पर्श और गंध में भी।

5. निरंतर थकान थाइराइड की समस्या का लक्षण हो सकती है

उनींदापन और हर रात आपके सोने के घंटों में वृद्धि शायद यह संकेत है कि आपके थायराइड ग्रंथि में कुछ गड़बड़ है। जब थाइराइड ग्रंथि पर्याप्त हार्मोन पैदा नहीं करती, तब शरीर ढीला पड़ जाता है। यह निरंतर थकान पैदा करता है।

समझ में न आने वाला मांसपेशियों का दर्द और उनमें ऐंठन थायराइड  की समस्या के दूसरे संकेत हैं।

थाइराइड हार्मोन की कमी नसों में बदलाव ला सकती है। ये मस्तिष्क से शरीर के बाकी हिस्सों को संकेत भेजते हैं। इससे शरीर के विभिन्न भागों में ऐंठन या स्पर्श की अनुभूति हो सकती है।

हालांकि, यह दोनों समस्याएँ मधुमेह से पीड़ित लोगों में भी हो सकती हैं। किसी भी मामले मेंअपने लक्षणों पर ध्यान दें और अपने डॉक्टर से बात करना न भूलें।

6. मिज़ाज में परिवर्तन और पेट का दबाव

थाइराइड और उसके लक्षण

शरीर में थाइराइड हार्मोन की अत्यधिक मात्रा या कमी का होना आपको वास्तव में चिड़चिड़ा, चिंतित और उत्तेजित बना सकता है। यह आपको लगातार उदासी और अवसाद का अनुभव करने के कारण भी पैदा कर सकता है। क्योंकि यह मस्तिष्क में सेरोटोनिन के स्तर को बदलता है।

जब आपके थाइराइड की कोई समस्या होती है, तो आपको पाचन और पेट के दबाव में कठिनाई होगी। यह संतुलित आहार और शारीरिक व्यायाम से नहीं सुधर सकता है।

7. धकधकी, उच्च रक्तचाप और अन्य लक्षण

गर्दन में धकधकी का महसूस होना इस बात का संकेत है कि आपका थाइराइड उतना सही काम नहीं कर रहा है जितना उसे करना चाहिए। हाई ब्लड प्रेशर अक्सर धकधकी के साथ होता हैहै। यह ख़राब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ा देता है।

थाइराइड की समस्या का इलाज डॉक्टर से कराना ज़रूरी है। इसके लिए कसरत और पौष्टिक आहार ही पर्याप्त नहीं हैं।

आपका शरीर क्या कह रहा है, ध्यान दें

आप देख सकते हैं, थाइराइड शरीर में कई तरीके के बदलाव कर सकता है। अचानक वज़न घटने से लेकर दूसरे गंभीर लक्षण भी हो सकते हैं। यदि आप इन संकेतों को नज़रअंदाज़ करते हैं, तो समस्या बदतर होती चली जाएगी। 35 वर्ष की उम्र के बाद थाइराइड ग्रंथि की समस्याएं ज़्यादा आम होती हैं। थाइराइड की समस्या मुख्य रूप से महिलाओं में होती हैं।

एक अनुमान है कि दुनिया में लगभग 30 करोड़ लोग हाइपोथाइराइडिज्म से ग्रसित हैं। सही दवा से वे सामान्य ज़िन्दगी जीने में सक्षम होंगे।